गुरुवार, 3 नवंबर 2016

आज डोली उसकी घर को मेरे पार कर गयी

मेरे   दिल  के  वो  टुकड़े   हजार  कर   गयी ।
मेरी   ज़िन्दगी  में  घुस  के  अत्याचार   गयी ।।
अब तो ज़िन्दगी का आखिरी मेला भी ख़तम हुआ ।
आज डोली उसकी घर को मेरे पार कर गयी ।।
ज़िन्दगी   ने    जिससे    भी   की    बेवफाई ।
मौत  की   सहेली  उससे   प्यार   कर   गयी ।।
उसका  मासूम  चेहरा  मैं  कैसे  भूल  सकता ।
उसकी  तस्वीर  जहन  में  आकार  कर  गयी ।।
भले  किसी  और  का  दिल  जीत  लिया  हो ।
मेरे    दिल   से   तो   वो   हार    कर    गयी ।।
ये मोहब्बत का कैसा तोहफा सौगात में दिया ।
वो   दुश्मन   भी   मेरे   दो   चार  कर   गयी ।।
मेरे   उपापचय   का   न   कोई   उपचार   है ।
मेरा   हमदर्द    बनकर    बीमार   कर   गयी ।।
कुछ  दिन  ही  सही  लेकिन  प्यार  तो किया ।
एक  सपना  था  मेरा  वो  साकार  कर गयी ।।

5 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन ’रंगमंच के मुगलेआज़म को याद करते हुए - ब्लॉग बुलेटिन’ में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सम्मान देने के लिये शुक्रिया सेंगर जी

      हटाएं
  2. We are self publishing company, we provide all type of self publishing,prinitng and marketing services, if you are interested in book publishing please send your abstract

    उत्तर देंहटाएं