शनिवार, 2 अगस्त 2014

मोहब्बत में शैतान भी इंसान हो जाते हैं

बेवफा  भी   वफ़ा  के   कद्रदान   हो  जाते  हैं ।
मोहब्बत  में  शैतान  भी  इंसान  हो जाते  हैं ।
गरीबों   के   दर्द   को  एहसास   करके  देखो ।
गरीबों  के लिए  दाता   भगवान   हो जाते  हैं ।
जो   सपनें    कभी    पूरे   हो    नहीं    सकते ।
अक्सर  वो  ज़िन्दगी  के  अरमान  हो  जाते ।
जिनको   हमेसा   हम   अपना   समझते   हैं ।
वो किस्मत के रुठने पर अन्जान  हो जाते हैं ।
कठिनाइयों को पार करके जो पाते हैं मंज़िल ।
वो   यात्री    नहीं    फाहियान    हो    जाते   हैं ।
तू ऐतबार  करता है   जिस  पर  भी  'सागर' ।
वो  भूल   कर   ईमान   बेईमान  हो  जाते  हैं ।

2 टिप्‍पणियां:

  1. आपका ब्लॉग देखकर अच्छा लगा. अंतरजाल पर हिंदी समृधि के लिए किया जा रहा आपका प्रयास सराहनीय है. कृपया अपने ब्लॉग को “ब्लॉगप्रहरी:एग्रीगेटर व हिंदी सोशल नेटवर्क” से जोड़ कर अधिक से अधिक पाठकों तक पहुचाएं. ब्लॉगप्रहरी भारत का सबसे आधुनिक और सम्पूर्ण ब्लॉग मंच है. ब्लॉगप्रहरी ब्लॉग डायरेक्टरी, माइक्रो ब्लॉग, सोशल नेटवर्क, ब्लॉग रैंकिंग, एग्रीगेटर और ब्लॉग से आमदनी की सुविधाओं के साथ एक सम्पूर्ण मंच प्रदान करता है.
    अपने ब्लॉग को ब्लॉगप्रहरी से जोड़ने के लिए, यहाँ क्लिक करें http://www.blogprahari.com/add-your-blog अथवा पंजीयन करें http://www.blogprahari.com/signup .
    अतार्जाल पर हिंदी को समृद्ध और सशक्त बनाने की हमारी प्रतिबद्धता आपके सहयोग के बिना पूरी नहीं हो सकती.
    मोडरेटर
    ब्लॉगप्रहरी नेटवर्क

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कमेंट करने के लिए हार्दिक धन्यवाद। आपने ब्लॉगप्रहरी के बारे में जो जानकारी दी उसके लिए हम आपके शुक्रगुजार हैं।

      हटाएं