मंगलवार, 11 नवंबर 2014

फिर भी बेसब्री से तेरा इंतज़ार करते हैं ।

छोड़कर दुनियाँ को सारी तुमसे प्यार करते हैं ।
बंद   नज़रों   से   भी   तेरा   दीदार   करते  हैं ।।
मालूम   है   हमको  तू  नहीं  मिलेंगी  मुझको ।
फिर   भी  बेसब्री  से  तेरा   इंतज़ार  करते  हैं ।।

2 टिप्‍पणियां:

  1. सागर जी आप बहुत अच्छा लिखते हैं !

    आप अपनी पोस्ट को निरंतर लिखते रहे ताकि हमको बार बार आपके ब्लॉग पर आने का मौका मिले

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मनोज जी हम आपका तहे दिल से शुक्रिया अदा करते हैं। आपकी हर एक टिप्पणी मुझे हौसला देती है।

      हटाएं