रविवार, 23 नवंबर 2014

प्यार खुदा से मिलने की तरक़ीब है।

चित्र स्रोत :- गूगल,

मोहब्बत  का  दर्द  भी  कितना अजीब  है ।
ये  दर्द  मिले  जिसको वो  ख़ुशनसीब  है ।।
इश्क   बिना   कोई   जियेगा   किस  तरह ।
जो   दिलवाला   है   वो  रब  के  करीब  है ।।
हिम्मत नहीं है मुझमें  माँगू  खुदा से कैसे ।
नहीं देगा  मुझे सनम मेरा  खुदा  रक़ीब है ।।
दिल तोड़ने वाले ज्यादा हैं जोड़ने वाले कम ।
टूटे  जो  दिल  को  जोड़े  वो  तो  हबीब  है ।।
दौलत  नहीं  है  लेकिन  जो  प्यार  बाँटता ।
बड़ा   है  दिल   जिसका   न   वो  ग़रीब  है ।।
ख़ुदा को चाहने वाले ही  प्यार किया करते ।
प्यार   खुदा   से  मिलने  की   तरक़ीब  है ।।

7 टिप्‍पणियां:

  1. ख़ुदा को चाहने वाले ही प्यार किया करते ।
    प्यार खुदा से मिलने की तरक़ीब है ।।
    ..बहुत सुन्दर ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर ! ब्लागर का फौलौवर बटन भी लगायें।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद जोशी जी। ब्लॉगर का फॉलोवर बटन मुझे नहीं मिला कृपया मदद करें।

      हटाएं
  3. बहुत सुन्दर !
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद मनोज जी। मैं आपका ब्लॉग फॉलो करता हूँ। अच्छा है।

      हटाएं
  4. दिल तोड़ने वाले ज्यादा हैं जोड़ने वाले कम ।
    टूटे जो दिल को जोड़े वो तो हबीब है ...

    सच कहा है दोस्त जो सच्चा हो वही दिल को जोड़ता है ... अच्छे ख्यालों का ताना बाना ..

    उत्तर देंहटाएं